Tuesday, February 7th, 2023

Amethi: अमेठी के 46 हजार स्कूली बच्चों को ड्रेस, जूता- मोजा और स्टेशनरी का इंतजार! पढ़ें खबर : Lokmat Daily

Amethi: अमेठी के 46 हजार स्कूली बच्चों को ड्रेस, जूता- मोजा और स्टेशनरी का इंतजार! पढ़ें खबर : Lokmat Daily

रिपोर्ट: आदित्य कृष्ण

अमेठी: सत्र 2022 के 11 माह बीत जाने के बाद भी परिषदीय विद्यालयों में शिक्षा ग्रहण करने वाले बच्चों को ड्रेस, जूता- मोजा और स्टेशनरी के इंतजार में वक्त गुजारना पड़ रहा है. जनवरी माह से नवंबर तक का समय बीत गया, लेकिन करीब 46 हजार बच्चों को धनराशि अब तक मुहैया नहीं हो सकी. वहीं विभागीय अधिकारियों द्वारा जल्द धनराशि मुहैया करवाए जाने की बात कही जा रही है.

जिले में संचालित हैं 1570 परिषदीय विद्यालय
दरअसल, अमेठी जनपद में प्राथमिक और उच्च प्राथमिक विद्यालयों की संख्या 1570 है. इन 1570 विद्यालयों में छात्र-छात्राओं की संख्या 2 लाख 2 हजार 518 है. बेसिक शिक्षा विभाग द्वारा अब तक 1 लाख 56 हजार 260 बच्चों को धनराशि मुहैया कराई गई है. जबकि शेष बच्चों को धनराशि के लिए इंतजार करना पड़ रहा है.

क्या है प्रक्रिया

बच्चों को धनराशि मुहैया कराने के लिए अध्यापकों द्वारा बच्चों का नामांकन प्रेरणा पोर्टल पर दर्ज किया जाता है. इसके बाद बच्चों और अभिभावकों का आधार प्रमाणीकरण के लिए खंड शिक्षा अधिकारी के पास भेजा जाता है. खंड शिक्षा अधिकारी द्वारा प्रमाणिकता के बाद यह डाटा बेसिक शिक्षा अधिकारी के पोर्टल पर दर्ज किया जाता है. फिर यहां से यह जानकारी शासन को भेजी जाती है और फिर शासन द्वारा पीएसएमस पर बच्चों का एक बैच तैयार कर बच्चों के खाते में धनराशि भेजी जाती है. किसी कारण वश यदि बच्चों का आधार खाते से नहीं जुड़ा हुआ है तो धनराशि खाते में नहीं आ सकती .

आपके शहर से (अमेठी)

उत्तर प्रदेश

उत्तर प्रदेश

वंचित बच्चों को जल्द मिलेगी धनराशि
जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी डॉ संगीता सिंह ने कहा कि बच्चों की संख्या ज्यादा है और कहीं आधार प्रमाणिकता में थोड़ी बहुत कमी है तो कहीं कुछ अन्य कागजात को दुरुस्त कराया जा रहा है. लगातार आधार प्रमाणिकता और जो भी आवश्यक मानक हैं, वह पूरे करते हुए शासन को बच्चों की संख्या की लिस्ट भेजी जा रही है. जल्द‌ ही सभी बच्चों को धनराशि मुहैया कराई जाएगी. इसके साथ ही बेसिक शिक्षा अधिकारी ने यह भी कहा है कि अभिभावक शासन द्वारा भेजी गई धनराशि का उपयोग बच्चों पर ही खर्च करें.

इसके साथ ही सत्र के समाप्त होने के बाद अध्यापक द्वारा ड्रेस के साथ बच्चों की तस्वीर को पोर्टल पर दर्ज करना होगा. यदि तस्वीर पोर्टल पर दर्ज नहीं होती तो अगले वर्ष बच्चों के खाते में धनराशि नहीं भेजी जाएंगी.

Tags: Amethi Latest News, Government primary schools, UP Basic Education Department, UP cold wave, UP news, Yogi government

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: