Saturday, December 10th, 2022

कानपुर के ग्रीन पार्क स्टेडियम को मिली घरेलू मैचों की सौगात, 3 साल बाद होंगे मैच : Lokmat Daily

कानपुर के ग्रीन पार्क स्टेडियम को मिली घरेलू मैचों की सौगात, 3 साल बाद होंगे मैच : Lokmat Daily

कानपुर. उत्तर प्रदेश के कानपुर के अंतरराष्ट्रीय ग्रीन पार्क स्टेडियम को एक बार फिर से घरेलू मैचों की मेजबानी करने का मौका मिलने जा रहा है. बीते तीन वर्ष से ग्रीन पार्क स्टेडियम में घरेलू मैचों का टोटा था. यहां मैच नहीं खेले जा रहे थे. लेकिन, अब तीन साल बाद नये साल में यहां चार घरेलू मैच होंगे. इसको लेकर यूपीसीए काफी खुश है.

बीसीसीआई के द्वारा जारी किए गए कार्यक्रम में कानपुर के ग्रीन पार्क स्टेडियम को चार घरेलू मैचों की मेजबानी करने का मौका मिला है. इसमें से दो मुकाबले रणजी श्रृंखला के हैं. तो वहीं, एक मुकाबला सीके नायडू श्रंखला का है. जबकि, एक मैच कूच बिहार ट्रॉफी का यहां पर खेला जाएगा. इसको लेकर ग्रीन पार्क स्टेडियम में तैयारियां शुरू हो गई हैं. यह सभी मैच जनवरी से शुरू हो जाएंगे.

यह है घरेलू मैच के कार्यक्रम
ग्रीन पार्क स्टेडियम में पहला मैच रणजी श्रंखला का तीन जनवरी, 2023 से उत्तर प्रदेश और हरियाणा के बीच खेला जाएगा. दूसरा मैच रणजी श्रंखला का 10 जनवरी से उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड के बीच खेला जाएगा. यह दोनों मैच चार दिवसीय होंगे. तीसरा मैच 22 जनवरी को कर्नल सीके नायडू ट्रॉफी में उत्तर प्रदेश और असम के बीच खेला जाएगा. वहीं, चौथा मुकाबला 26 तारीख को कूच बिहार ट्रॉफी का उत्तर प्रदेश और झारखंड के बीच कानपुर के ग्रीन पार्क स्टेडियम में खेला जाएगा.

जगी अंतरराष्ट्रीय मैच मिलने की उम्मीद
यूपीसीए के संयुक्त सचिव मोहम्मद फहीम ने बताया कि यह बहुत खुशी की बात है कि कानपुर के ग्रीन पार्क स्टेडियम में घरेलू मैच एक बार फिर तीन साल बाद खेले जाएंगे. इससे क्रिकेट प्रेमियों को मैच देखने का मौका मिलेगा. साथ ही बीसीसीआई के द्वारा कानपुर के ग्रीन पार्क स्टेडियम को घरेलू मैचों की सौगात देने के बाद अब यूपीसीए को उम्मीद है कि उसे अंतरराष्ट्रीय मैचों की मेजबानी करने का मौका भी मिल सकता है.

ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें News18 हिंदी| आज की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट, पढ़ें सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट News18 हिंदी|

FIRST PUBLISHED : November 24, 2022, 17:25 IST

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: