Monday, September 26th, 2022

जब तक सपने साकार न हो जाएं, आराम मत करो; युवाओं को नितिन गडकरी ने बताया सफलता का मंत्र : Lokmat Daily

जब तक सपने साकार न हो जाएं, आराम मत करो; युवाओं को नितिन गडकरी ने बताया सफलता का मंत्र : Lokmat Daily

नई दिल्ली: केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने युवाओं को सफलता का मंत्र दिया और कहा कि जब तक सपने साकार न हो जाएं, तब तक आराम न करें. गुरुवार को विज्ञान, प्रौद्योगिकी और अनुसंधान के लिए विगनेन फाउंडेशन (Vignan Foundation) के 10वें दीक्षांत समारोह में पहुंचे नितिन गडकरी ने छात्रों से तब तक आराम नहीं करने का आह्वान किया, जब तक कि वे अपने लक्ष्यों को प्राप्त नहीं कर लेते. उन्होंने कहा कि युवाओं को यह ध्यान रखना चाहिए कि सीखना एक सतत प्रक्रिया है और यह यूनिवर्सिटी से ग्रेजुएट होने के तुरंत बाद समाप्त नहीं होती है..

छात्रों को संबोधित करते हुए केंद्रीय परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने विगनेन के राष्ट्रीय रैंकिंग के मामले में शीर्ष 100 क्लबों में शामिल होने पर प्रसन्नता व्यक्त की और छात्रों को आत्मसंतुष्ट न होने की सलाह दी. उन्होंने कहा कि उन्हें भविष्य के गौरव के लिए प्रयास करना चाहिए. उन्होंने कहा, ‘छात्रों को अनुशासन, नवीन सोच और सरल जीवन को अपनाना चाहिए ताकि वे अपने जीवन में और ऊंचाइयों को छू सकें.’ उन्होंने कहा कि यह भारत के लिए गर्व का पल है क्योंकि मल्टी नेशनल कंपनियों के कई सीईओ भारतीय हैं. उन्होंने कहा कि छात्रों को वैश्विक नेता (ग्लोबल लीडर) बनने की इच्छा रखनी चाहिए और लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए कड़ी मेहनत करनी चाहिए.

टाइम्स ऑफ इंडिया में छपी खबर के मुताबिक, मंत्री नितिन गडकरी ने छात्रों को प्रधानमंत्री के उस सपने की भी याद दिलाई, जिसमें पीएम नरेंद्र मोदी का सपना है कि भारत 05 ट्रिलियन डॉलर की इकोनॉमी बन सकता है. नितिन गडकरी ने स्टूडेंट्स से कहा कि यह मुश्किल हो सकता है लेकिन असंभव नहीं. उन्होंने कहा कि ज्ञान को धन में बदलने में ही भविष्य निहित है. उन्होंने कहा कि दूरदृष्टि के साथ अच्छा नेतृत्व समय की मांग है. उन्होंने कहा कि वर्षा जल संरक्षण से देश में पानी की कई समस्याओं का समाधान होगा.

नितिन गडकरी ने आगे कहा कि खाद्य तेल का उत्पादन बढ़ाया जाना चाहिए और अफसोस जताया कि देश जीवाश्म ईंधन पर सोलह लाख करोड़ खर्च कर रहा है. उन्होंने सलाह दी कि अन्नदाता को ऊर्जादाता बनाने के लिए कृषि उत्पादों से ईंधन उत्पन्न किया जाना चाहिए. उन्होंने छात्रों को इथेनॉल और ग्रीन हाइड्रोजन के उत्पादन पर ध्यान केंद्रित करने की सलाह दी. गडकरी ने छात्रों को रोजगार मांगने के बजाय रोजगार देने वाला बनने की सलाह दी.

Tags: India news, Nitin gadkari

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: