Monday, June 27th, 2022

हज यात्रा को लेकर टूर ऑपरेटर की याचिका खारिज, SC बोला- पहले आना चाहिए था : Lokmat Daily

हज यात्रा को लेकर टूर ऑपरेटर की याचिका खारिज, SC बोला- पहले आना चाहिए था : Lokmat Daily

नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार को एक टूर ऑपरेटर द्वारा दायर याचिका पर विचार करने से इनकार कर दिया, जिसमें हज-2022 के आयोजक समूह की सूची में उसका नाम शामिल करने की अपील की गई थी. न्यायमूर्ति एसए नजीर और न्यायमूर्ति पीएस नरसिम्हा की पीठ ने कहा कि इस तरह की याचिकाएं पहले भी खारिज की जा चुकी हैं और इस स्तर पर कोई राहत नहीं दी जा सकती.

पीठ ने कहा, ‘इस स्तर पर, ऐसा नहीं किया जा सकता. हज में अब कितने महीने बचे हैं? आपको एक महीने पहले आना चाहिए था. हम कोई आदेश पारित करने के इच्छुक नहीं हैं. हम अगले साल देखेंगे. इस स्तर पर कुछ भी नहीं किया जा सकता.’ इसके बाद पीठ ने याचिकाकर्ता से याचिका वापस लेने और कानून में उपलब्ध किसी अन्य उपाय को अपनाने के लिए कहा.

याचिकाकर्ताओं के वकील ने कहा, ‘सूची तैयार है, घोषित नहीं. कृपया विचार करें. यह हमारे (बिजनेस के लिए) सर्वाइवल का सवाल है.’ इस पर बेंच ने कहा, ‘हमने इसी तरह की याचिकाओं को खारिज कर दिया है। आपके पास योग्यता हो सकती है, लेकिन नहीं इस स्तर पर ऐसा नहीं किया जा सकता है. इस स्तर पर सब कुछ फिर से काम करना होगा.’ इसके बाद याचिकाकर्ता ने याचिका वापस ले ली और मामला खारिज कर दिया गया.

शीर्ष अदालत अल-इस्लाम टूर कॉरपोरेशन द्वारा दायर एक याचिका पर सुनवाई कर रही थी, जिसमें हज-2022 के आयोजक समूह की सूची में इसका नाम शामिल करने की अपील की गई थी. हज, उमराह, जियात्रात का टूर आयोजित करने वाली कंपनी अल-इस्लाम टूर कॉरपोरेशन ने अपनी याचिका में दलील दी थी कि हज-2022 के लिए पंजीकरण और हज कोटे के आवंटन के लिए उसके आवेदन पत्र की स्वीकृति उनके ऑनलाइन आवेदन के बाद भी और भारतीय हज समिति के दिशा-निर्देशों के अनुसार सभी योग्य मानदंडों को पूरा करने के बाद भी रोक दी गई है.

Tags: Haj yatra, Supreme Court

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: